ग्रेटर नोएडा वेस्टक्राइमताजातरीन

Greater Noida West News: Eco Village 2, ग्रेनो वेस्ट में डीजी सेट से हो रहा भारी प्रदूषण

ग्रेटर नोएडा, रफ़्तार टुडे। Eco Village 2, सेक्टर 16B, ग्रेनो वेस्ट में बिना चिमनी लगाए डीजी सेट से भारी प्रदूषण हो रहा है, जिससे आसपास की रिहायशी बिल्डिंगों में रहने वाले लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। प्रदूषण के कारण लोगों की सेहत पर गंभीर प्रभाव पड़ रहा है, और निवासियों का कहना है कि स्थिति बर्दाश्त के बाहर हो गई है।

प्रमुख समस्याएं

  1. प्रदूषण का स्तर: बिना चिमनी के डीजी सेट से निकलने वाला धुआं और हानिकारक गैसें वातावरण में मिलकर प्रदूषण का स्तर बढ़ा रही हैं।
  2. स्वास्थ्य पर असर: इस प्रदूषण से लोगों में सांस लेने में तकलीफ, आंखों में जलन और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हो रही हैं।
  3. निवासियों की शिकायतें: प्रदूषण के कारण आसपास के निवासियों को काफी परेशानी हो रही है। लोगों ने इस मुद्दे को लेकर कई बार शिकायतें दर्ज कराई हैं, लेकिन अब तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है।

निवासियों की मांग

निवासियों ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB), ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण (GNIDA), जिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर, उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (UPPCB) और सांसद डॉ. महेश शर्मा से अपील की है कि तत्काल प्रभाव से इस समस्या का समाधान निकाला जाए और डीजी सेट को हटाने का आदेश पारित किया जाए।

सोशल मीडिया पर अपील

निवासियों ने सोशल मीडिया पर भी अपनी समस्या उठाई है और संबंधित अधिकारियों को टैग करते हुए मदद की गुहार लगाई है:

  • @CPCB_OFFICIAL: केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को निवेदन है कि वे इस मुद्दे पर त्वरित कार्रवाई करें।
  • @OfficialGNIDA: ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण से निवेदन है कि वे प्रदूषण की इस समस्या का समाधान करें।
  • @dmgbnagar: जिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर से अनुरोध है कि वे इस मामले में संज्ञान लें और तुरंत कार्रवाई करें।
  • @UppcbN: उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से आग्रह है कि वे डीजी सेट से हो रहे प्रदूषण को रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाएं।
  • @dr_maheshsharma: सांसद डॉ. महेश शर्मा से निवेदन है कि वे इस मुद्दे को प्राथमिकता दें और निवासियों की मदद करें।

समाधान की अपेक्षा

निवासियों को उम्मीद है कि उनकी अपील पर ध्यान दिया जाएगा और डीजी सेट से हो रहे प्रदूषण को रोकने के लिए तुरंत प्रभाव से कदम उठाए जाएंगे, ताकि उन्हें स्वस्थ और सुरक्षित वातावरण मिल सके।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button